स्वस्थ रहने के लिए श्वास का ज्ञान Knowledge of breathing to stay healthy

स्वस्थ रहने के लिए श्वास का ज्ञान Knowledge of breathing to stay healthy
स्वस्थ रहने के लिए श्वास का ज्ञान Knowledge of breathing to stay healthy

स्वस्थ रहने के लिए श्वास का ज्ञान Knowledge of breathing to stay healthy

स्वस्थ रहने के लिए श्वास का ज्ञान Knowledge of breathing to stay healthy आजकल हमारा जीवन बहुत ज्यादा भाग दौड़ भरा हो गया है और हम आपने स्वस्थ पर ध्यान देना भूल गए हैं जिसके कारण आज हमें तरह-तरह की बीमारियां हो रही हैं तो आज हम आपको बताएँगे की आप आपने श्वास लेने के तरीके को सही करके कैसे स्वस्थ रह सकते हो तो चलिए जानते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए श्वास लेने का ज्ञान, आज इस विषय पर हम श्वास लेने के फायदे और इससे आप किस प्रकार की बिमारियों से बच सकते हैं इन सभी के बारे में आपको बताएँगे। 

आपकी सांसें कैसी हों? 

  • सांसों में ली गयी हवा की मात्रा ना तो बहुत ज्यादा होनी चाहिए, ना ही बहुत कम होने चाहिए।
  • हमारी सांसें गहरी और शांत होनी चाहिए।
  • जिस प्रकार हवा की कम मात्रा सांसों में लेना हानिकारक है उसी प्रकार हवा की ज्यादा मात्रा भी स्वस्थ के लिए हानिकारक है।
  • हम कभी - कभी मुंह से भी साँस लेने लगते हैं लेकिन मुंह से साँस लेना भी हमारे लिए बहुत हानिकारक है।
  • कोशिस करें उबासी भी बंद मुँह से ही लें।
  • कुछ लोग रात में सोते हैं तो उनका मुंह खुला रहता है ये हमारे स्वस्थ के लिए बहुत हानिकारक है कोशिस करें रात को सोते समय मुंह खुला न हो। सोते समय मुँह को ढँक कर न सोएं।

 सांसों का विज्ञान Science of breath

हम साँस लेने के लिए जो हवा लेते है उसे ऑक्सीजन कहते हैं ऑक्सीजन हमारे लिए प्राणवायु है ऑक्सीजन सेल्स के लिए भोजन है। यह एन्जाइम्स की उपस्थिति में ग्लूकोज का पाचन करती है। जिससे हमारे शरीर में ऊर्जा का निर्माण होता है और वेस्ट गैस के रूप में कार्बन डाई ऑक्साइड का उत्सर्जन होता है। और इसी कार्बन डाई ऑक्साइड को हम वेस्ट गैस के रूप में बहार निकलते है इस क्रिया को हम श्वसन Respiration कहते हैं।

लगभग ४०० से अधिक रोगों का कारण ओवर ब्रीथिंग ( जरूरत से ज्यादा सं लेना) है। ओवर ब्रीथिंग कारण मुहं से साँस लेना है क्योंकि नाक की जगह मुहं से साँस लेने पांच से दस गुना ज्यादा हवा प्रवेश करती है। इससे कई बड़ी बीमारियां होती हैं जैसे अस्थमा, मिर्गी, ब्लड प्रेशर और भी कई छोटी समस्यांएं होती हैं। अगर हम अपनी ब्रीथिंग को ही कंट्रोल कर लें तो हम ४०० से अधिक बिमारियों से बच सकते हैं।

मुंह से साँस लेने के नुकसान Mouth-breathing disadvantages

  • मुहं से साँस लेने से ओवर ब्रीथिंग होती है, जिससे खून में ऑक्सीजन और कार्बन डाई ऑक्साइड का संतुलन बिगड़ जाता है, जो हमारे रक्त में pH को परिवर्तित करके कई रोगों का कारण बनता है। 
  •  मुंह से साँस लेने से हमारे मुंह की लार सुख जाती है। और इस लार में कई जीवाणुओं और विषाणुओं को ख़त्म करने वाले एंजाइम्स पाए जाते हैं, जब यह लार सुख जाती है तो हानिकारक बैक्टीरिया मुंह में बहुत तेजी से बढ़ने लगते हैं। जो मुंह की बदबू, दांतों में सड़न और मासूड़ों की बीमारियां उत्पन्न करते हैं।
  • लार के सुख जाने से हमारा पाचन तंत्र भी प्रभावित होता है क्योंकि लार में कई प्रकार के पाचक एंजाइम्स भी पाए जाते हैं। अतः मुंह से साँस लेने से हमें बदहजमी का भी शिकार होना पड़ता है।
  • मुंह से साँस लेने से बहरी वातावरण की हवा बिना फ़िल्टर हुए प्रवेश कर जाती है, जिससे कई बैक्टीरिया और जीवाणु सीधे फेफड़ों में चले जाते हैं और कई प्रकार की बीमारियां उत्पन्न करते हैं।
  • मुंह से साँस लेने से वातावरण की हवा सीधे हमारे गले और मुंह के संपर्क में आती है, जो कि बार-बार टांसिलाइटिस और गले के रोगों को उत्पन्न करती है।
  • मुंह से साँस लेने से दाढ़ी, मूंछों एवं सिर के बाल बहुत जल्दी सफ़ेद हो जाते हैं। डैंड्रफ और सिर में खुजली कीसमस्या भी उत्पन्न होती है। आँखों के आस पास डार्क सर्किल का भी यही प्रमुख कारण है।
  • मुंह से साँस लेने से थाइरोइड, टी. बी. होने की संभावना अधिक होती है।
  • मुंह से साँस लेने से वायु फेफड़ों के साथ पेट में भी पहुँच जाती है, जो गैस बनाने का कारण है। जिससे पेट सम्बन्धी कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।
  • मुंह से साँस लेने वाले बच्चे रात को बिस्तर पर पेशाब करते हैं।
  • दिन भर सुस्ती, त्वचा का रुखापन, खुजली, बार-बार मूत्र आना, हाथ और पैर में अधिक पसीना आना भी मुंह से साँस लेने के कारण हो सकते हैं।
मुझे लगता है कि यह नुकसान पढ़ कर आपने अपना मुंह बंद जरूर कर लिया होगा और नाक से साँस लेने लगे होंगे। लेकिन इसे पूरी जिंदगी करेंगे तो कई रोगों से बचे रहेंगे और जल्दी बूढ़े भी नहीं होंगें। दिन में तो आप इसको कर लेंगे लेकिन रात को सोते समय भी हमें मुंह से साँस नहीं लेना है, मुझे पता है की यह थोड़ा मुश्किल है लेकिन कुछ समय बाद आपको इसके परिणाम मिलेंगे।
याद रखें, इस धरती पर हम मनुष्यों के लिए वायु से बढ़ कर कोई भी अन्य चीज नहीं है क्योंकि इसके बिना हम कुछ मिनटों से अधिक जी नहीं सकते हैं।

दोस्तों आपको यह जानकारी कैसी लगी कमेंट में लिखें। अगर अच्छी लगी तो लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा। इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए हमें फॉलो करें।

Previous
Next Post »